गुरुवार, 13 जून 2013

Single Ayurvedic Herbs : My Experience: Kantkari, Solanum surrattence/Solanum xanthocarpus...

Single Ayurvedic Herbs : My Experience: Kantkari, Solanum surrattence/Solanum xanthocarpus...: आयुर्वेद की यह अनोखी औषधी लगभग सारे उत्तर भारत मे हर जगह और् हर मोसम मे मिल जाती है । लगभग सभी निघुंटुओं मे इसका वर्णन मिलता है । आधुनिक द्...

सोमवार, 6 मई 2013

Paralysis पक्षाघात

पाठकों से निवेदन है कि आपनी समस्या को पुरे विस्तार के साथ लिखे और कहां कहां से कैसा ट्रिट्मैन्ट लिया है उसको भी बताये, साथ मे एक फ़ोटो भी भेजे ताकि मै प्रकृति का निरधारण कर सकुं ।

MY SON AGED 21 YEARS - A CASE OF CEREBRAL PALSY SPASTIC QUDERIGIPLEGIA.PERSENTLY PERSUING M.Sc. BIOTECHNOLOGY LOCALLY FROM ALWAR (RAJ).HE IS SLOW IN WRITING DUE TO SPASTICITY.IN WALKING DRAG TOES OF BOTH LEGS. LANDING ON TOES.SEEKS SUPPORT WHILE WALKING.
KINDLY ADVISE
-S P PARASHAR
परशार जी , तकीनिकी कारणो से मै आप द्वारा दी गई रिपोर्ट्स को प्राप्त नही कर सका । आपने रोग के आरम्भ होने का समय नही बतया है ।
इस तरह के लक्षणो को आयुर्वेद मे वात रोगो की श्रेणी मे रखा गया है ।
पन्चकर्म आयुर्वेद इसमे बहुत ही उपयोगी है । बेहतर यही होगा कि आप किसी पन्च्कर्म चिकित्सक से सपर्क करे।
फ़िर भी सामान्य चिकित्सा मै यहाँ लिख रहा हुँ -
हर रोज एरण्ड तैल २० मि. लि. दुध मे डालकर रात को , इससे सुबह एक हल्का सा दस्त लगेगा।
बला तैल और महानरायण तैल दोनो मिलाकर प्रभावित अँग और शिर कि मालिश।
क्षीर बला तैल का नस्य।
मालिश करने के बाद सेक- कुकर मे एरण्ड पत्र और निर्गुन्डी पत्र लेकर सीटी उतार कर नली लगाकर प्रभावित अँग को सेके।

निरुह बस्ति- ३० मि. लि. क्षीरबला तैल सिरिंज मे लेकर एनिमा करे और उसके बाद ७०० मि. लि. दशमुल का गुनगुना क्वाथ एनिमा पोट मे लेकर एनिमा कर दे । ध्यान रखे कि यह सब खाली पेट करना है , (सप्ताह मे एक बार)
मात्रा बस्ति-- निरुह बस्ति के बाद अगले दिन ४५ मि. लि. क्षीर बला तैल(कोष्ण) सिरिंज मे लेकर खाना खाने के तुरन्त बाद एनिमा करें, ध्यान यह रखे कि यह बस्ति खाने खाने के तुरन्त बाद ही देनी है , १ सैकण्ड का भी विलम्ब ना करे । (लगातार ७ दिन)
खाने के लिये--
बृहत वात चिन्तामणि रस १२५ मि. ग्रा.
श्रन्गाभ्र रस २५० मि. ग्रा.,
विष तिन्दुक वटी १२५ मि. ग्रा.
योगराज गुग्गुलु २५० मि. ग्रा.
यह एक मात्रा है शहद मे मिलाकर सुबह शाम खाना खाने से १ घन्टा पहले ।
अजमोदादि चुर्ण ३ ग्रा. खाना खाने के बाद दो बार कोष्ण जल से
अश्वगन्धारिष्ट और बलारिष्ट दोनो मिलाकर २० मि. ग्रा,. और समान मात्रा मे पानी मिलाकर खाना खाने के बाद दो बार
इसके अतिरिक्त नियमित व्ययाम भी करवाते रहे ।
१ महिने तक इस योग को करे इसके बाद मुझे मेल करके सुचित करे

शुक्रवार, 3 मई 2013

मेदोदोष(Obesity)मे योगत्रयम ।

योग न० १---- बेल, अरणी, सोनापाठा, गम्भारी, और पाढल इन पाँचो की जड की त्वचा का काढा बनाकर शहद मे मिलाकर सभी प्रकार के मेदोविकार नष्ट होते है ।
योग न० २---त्रिफ़ला का काडा बनाकर शहद मिलाकर पीने से सभी प्रकार के मेदोदोष नष्ट होते है ।

योग न० ३---पानी को गरम करके ठन्डा होने पर शहद मिलाकर पीने से भी सभी प्रकार के मेदोविकार नष्ट होते है ।

विशेष-- शहद काढे का चतुर्थांश लेना चाहिये, २० ग्राम औषधि को ३२० ग्रा. पानी मे जब तक धीमी आँच पर गरम कर जब तक की वो आधा नही रह जाता । प्रात: काल काढे का सेवन करें। (शा. सं,म,ख,२)

बुधवार, 1 मई 2013

पुरुषत्व वृदि के लिये

आहार मे दुध का प्रयोग , उडद का प्रयोग, नये देसी घी का सेवन, नये अन्नॊ का सेवन, साठी चावल दुध के साथ सेवन, सुखे मेवे, खजुर , मुन्नका, सिंघडा, मधु, मक्खन, मिश्रि, आदि आहार वीर्य वर्धक होते है ।

       अमिष भोजोनो मे ताजा मांस, पक्षियों के अण्डों का सेवन, वन्य चटक पक्षि का मांस, मगर के अण्डे या मांस का सेवन  वीर्य वर्धक होता है ।
           
            आयुर्वेदिक औषोधियों मे , अश्वगन्धा लेह, शतावरी घृत, कामदेव चुर्ण, धातु पौष्टिक चुर्ण, क्रोंच पाक , मुसली पाक, आदि बहुत ही उपयोगी होते है । जिनकॊ प्राय: अवसाद की स्थिति बनी रहती है उनके लिये इन आहार और औषधियों का सेवन बहुत ही हितकर होताहै ।
     देसी गाय का दुध सदा ही हितकर होता है और मानसिक रोगों को जड से खत्म करता है

शनिवार, 30 मार्च 2013

२००१ से हेपैटाईटीस से पिडित हूँ ( Hepatitis B )

DDear Sir,
 I m suffering from Hepatites B from 2001. Is there are any treatment in Ayurveda about this diesease ??? Plz tell if there are any chances for any treatment because i m single yet and wanna married soon.
Best regds,

.आयुर्वेद मे यकॄत रोगों का इलाज संभव है । सबसे पहले तो आप आम पाचन के लिये सुदर्शन चुर्ण २ ग्रा. और अर्क मको २५ मि. लि. सबह खाली पेट १ सप्ताह के लिये सेवन करें।
उसके बाद पंचतिक्त घृत ५० मि. ग्रा. से शुरु करके ५० मि. ग्रा. हर रोज बडाते हुए तीन दिनो तक सुर्यदोय होने के समय सेवन करे और केवल मुंग की दाल वाली खिचडी का सेवन करे , प्यास लगने पर कोष्ण जल का सेवन करें।
हल्के जुलाब लगाने के लिये आप निशोथ ४ ग्रा. और १० ग्रा. मिश्रि मिलाकर सेवन करें , इससे आपको हल्के दस्त लगेंगे घबराना मत।
आरोग्य वर्धनी वटी ४०० मि ग्रा.
लोक नाथ रस २५० मि. ग्रा.
धात्री लौह २५० मि. ग्रा. 
यह एक मात्रा है , इसको आप सुबह शाम शहद मे मिलाकर सुबह शाम खाली पेट ले।
भुमि आँवला १२ ग्रा. रात को आधे गिलास गर्म पानी मे भिगोकर सुबह खाली पेट ले 
यह आप लगातार 90 दिनो तक करें।
गरिष्ठ भोजन, अधिक तैलीय पदार्थ , और मिर्च का सेवन मत करें |

शुक्रवार, 29 मार्च 2013

Oligozoospermia, Shukra Dosha,अल्प शुक्राणु

Dear Sir,
Dear Sir,

I am suffering from oligospermia and wants to make father but less sperm causes i cant make father.
can I growth in my sperm count.
I am suffering from oligospermia and wants to make father but less sperm causes i can
surendra

आज कल फ़ास्ट लाईफ़ और फ़ास्ट फ़ुड से इस प्रकार की समस्याएँ दिन प्रतिदिन बड रही है । सुरेन्द्र जी सबसे पहले तो आप अपनी दिनचर्या कॊ नियमित किजिये और व्ययाम जरुर करिये । सादा खाना खाएँ और धुम्रपान और मदिरा पान यदि आप करते है तो फ़ोरन बन्द कर दें।
यहाँ मै कुछ आयुर्वेदिक औषधियाँ लिख रहा हुँ इनको लगातार तीन महीनो तक सेवन करे और पथ्य पालन करे । 
क्रोन्च बीज चुर्ण १ ग्रा.
गोखरु चुर्ण १ ग्रा.
मुसली चुर्ण १ ग्रा.
सुबह शाम एक एक चमच दुध के साथ
रस सिन्दुर १२५ मि. ग्रा.
वंग भस्म २५० मि. ग्रा.
शुद्ध शिलाजीत २५० मि. ग्रा.
पुष्पध्न्वा रस १२५ मि.ग्रा.
ये सभी शहद मे मिलाकर सुबह शाम दुध के साथ
कुमार्यासव ( जितना पुराना मिल सके उतना ही अच्छा) २५ मि. लि. और सममात्रा जल मिलाकर खाना खाने के बाद दो बार 
आयुर्वेद मे निष्ठा रखकर लगातार तीन महीनो तक इन औषधियों का सेवन करे आप अवश्य ही ठीक हो जाओगे

सोमवार, 25 मार्च 2013

HIV & AIDS and its management in Ayurveda, एच आई वी एवम् ए आई डी एस का आयुर्वेद मे साक्षेप निदान एवम् चिकित्सा सुत्र भाग २

राजयक्ष्मा का आयुर्वेद मे वर्णन किया गया है यह रोगों का राजा होने के कारण ही इसका यह नाम दिया गया है ।
                  अनेकरोगानुगतो बहुरोगषुरोगम:।
                  राजयक्ष्मा क्षय: शोषो रोगराडिति च स्मृत; ॥

अनेक रोगो से अनुगत( बहुत से रोग रोगी को लग जाते हैं , रोगों का समुह )
तथा बहुत से रोग जिसके आगे चलते हैं । क्षय , शोष और रोगराट् इसके पर्याय हैं ।
आयुर्वेद मे इस रोगके प्रारंभिक लक्षण--


             पूर्वरुपं प्रतिश्यायो दौर्बल्यं दोषदर्शनम् ।  अदोषेष्वपि भावेषु काये बीभत्सदर्शनम् ॥
घृणित्वमश्नतश्चापि बलमांसपरिक्षय: । स्त्रीमद्यमांसप्रियता चावगुंठ्ने ॥
माक्षिकाघुणकेशानां तृष्णानां पतनानि च ।...... (चरक)

बार बार सर्दी जुकाम का होना, दुर्बलता, दोषरहित वस्तुओं मे भी दोष देखना , शरीर मे बीभत्स रुप देखना, घृणा करना, भोजन करने पर भी बल और मांस का क्षय हो जाना, स्त्रियों मे मांस भक्षण मे अधिक रुचि का हो जाना आदि ।


आयुर्वेद मे वर्णित इस रोग के ग्याराह लक्षण ( एकादश रुप )

  1. बार बार जुकाम लगना
  2. श्वास ( सांस लेने मे दिक्क्त )
  3. कास ( खांसी )
  4. अंसरुजा ( गर्दन और छाती के उपर भाग मे दर्द या बेचैनी )
  5. शिरोरुजा ( सिर मे दर्द )
  6. अरुचि ( भुख नही लगना )
  7. अतिसार
  8. विट्संग( कब्ज)
  9. वमन
  10. पार्श्वशुल 
  11. ज्वर
इस रोग मे रोगी के मल और शुक्र की रक्षा करनी जरुरी होती है । क्योंकि इस रोग मे  रोगी का मल ही उसका बल होता है ।
इस रोग की आयुर्वेद् मे साध्य- असाध्यता--
बल युक्त और मांसयुक्त रोगी साध्यहोताहै । इसके विपरीत बलहीन और मांसहीन रोगी असाध्य होता है ।
आयुर्वेद मे इस रोग का चिकित्सा सुत्र--
बलवान रोगी मे पंचकर्म लाभदायक ।


आहार व्यवस्था--
  बकरी का दुध, गाय का दुध, जौ के बने पदार्थ भात दलिया रोटी आदि 
लावा, तीतर मुर्गा बटेर के मांस मे अम्ल रस यानि खट्टे पदार्थ डालकर खाना ।
पीपर जौ कुल्थी सौंठ अनार के रस और आंवले के साथ घी मे बना हुआ मांस ।
वारुणी ( सर्वोत्तम मद्य का सेवन करना )
लघुपंचमुल से सिद्द् दुग्ध और जल का सेवन ।
भुमि आमला नामक बुटी से सिद्द् किया हुआ जल हमेशा पीना ।
उत्तरभक्तिकम् -- भोजनोपरांत बलाघृत या रास्ना घृत या दशमुलाद्य्घ्हृत का पान करना ।
खट्टे अनार रस , या खटकल बुटी से युक्त मांसरस (सूप का प्रयोग करना )
औषध व्यवस्था----

  1. अश्वगंधा के सिद्द् किये हुए दुग्ध से निकाले घी को शर्करा और् दुध के साथ पीय़ें ।
  2. अश्वगंधा भस्म को शहद मे डालकर चांटे ।
  3. सितोपलादि चुर्ण का प्रयोग
  4. एलादि चुर्ण ( अं . हृ. )
  5. यवानी षाड्व (चरक)
  6. पंचगव्य
  7. च्यवनप्राश
  8. सह्र्सपुटी अभ्रक भस्म
  9. माणिक्यरस